क्यों जीवन में लगातार बदलाव बेहद जरूरी है?

Life lessons – बदलते परिवेश में कुछ मज़बूत दिखने वाले लोग भी जिंदगी की दौड़ में क्यों पिछड़ जाते हैं?
Advertisement

जीवन में बदलाव का महत्व

अनादि काल से, परिवर्तन के बारे में उपदेश हम सुनते आ रहे हैं।सभी पीढ़ियों के लोगों ने बदलाव की प्रक्रिया के माध्यम से लाखों लोगों का मार्गदर्शन करते हुए, अपने दिलों से बदलाव को अपनाया है। बहुत समय पहले भी परिवर्तन ने हमें एक एकल कोशिका जीवन से जटिल मनुष्यों में बदल दिया, जिसका उदाहरण हम खुद हैं।

ऐतिहासिक बदलाव की घटनाएं

मानव इतिहास में पहला सबसे बड़ा दर्ज परिवर्तन तब हुआ, जब होमोएरेक्टस, पहली बार अफ्रीका में लगभग 20 लाख साल पहले दिखाई दिया, जब शुरुआती मनुष्यों के पूर्वजों ने अफ्रीका महाद्वीप से निकलकर अपनी लगभग 15 लाख साल लंबी यात्रा शुरू की, और अंत में पृथ्वी को मानव प्रभुत्व वाले ग्रह में परिवर्तित कर दिया।

बदलाव जरूरी है

यदि हम इस मानसिकता को बदलने के लिए तैयार नहीं हैं, तो हम कई प्रजातियों में से एक हो सकते हैं, जो इस ग्रह पर राज करने के बाद केवल शून्य में लुप्त हो गए। इसका यह नहीं है कि लुप्त हो चुकी प्रजातियों को बदलने की कोशिश नहीं की गई, उन्होंने ऐसा किया लेकिन उस स्तर पर नहीं, जिसकी आवश्यकता थी।

आज भी दुनिया की बहुत बड़ी कंपनियां अपने आप मे परिवर्तन करके कुछ दूसरे व्यवसायों में फल फूल रही हैं। जैसे रिलायंस जियो, जोकि एक तेल और प्राकृतिक गैस की कंपनी थी, लेकिन अब एक टेलीकॉम लीडर बन चुकी है।

बदलाव न करने के दुष्परिणाम

डेटा या सबूतों की कमी के कारण हमारे पास मानव जीवन के दैनिक जीवन में होने वाले परिवर्तनों के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है, जब वे कई अन्य प्रजातियों की तरह थे, केवल भोजन और आश्रय एकत्र कर रहे थे। हालाँकि, आधुनिक समय मे हम घटित होने वाली घटनाओं का विश्लेषण करने में सक्षम हैं।

  1. हम मनुष्यों के रूप में अनजान पानी में कदम रखने से डरते हैं, भले ही यह हमारे बेहतर भविष्य के लिए हो। मनोवैज्ञानिक तौर पर परिवर्तन हमारे लिए एक गलती की तरह होता, जिसको ठीक किये बिना हमे शुकुन नही मिलता।
  2. इंसानों की तरह ही दिखने वाले और बेहतर जीव निंदर्थल्स, 8 लाख साल पहले धरती से विलुप्त हो गए और इंसान इस ग्रह के मालिक बन गए। क्योंकि इंसानो ने समय के हिसाब से अपने समूह को बड़ा कर लिया जबकि वो लोग नही कर पाए। आज भी अगर कोई दूसरी प्रजाति इंसानो पर हमला करती है, तो सारे इंसान एक जुट होकर उसके खिलाफ लड़ते हैं, जैसे हाल फिलहाल का Coronavirus.
  3. प्राचीन सभ्यताओं में से एक ग्रीक में स्पार्टा साम्राज्य अपने पुराने तौर तरीकों में बदलाव न करने के कारण, बड़े बड़े युद्ध जितने के बावजूद भी खत्म हो गया। जबकि एथेंस जो कि मिलिट्री में इतना मजबूत नही था और स्पार्टा से युद्ध मे हार के बावजूद अपने साम्राज्य को बचाने में सफल रहा। क्योंकि एथेंस ने अपने लोगों को हर परिस्थिति में जीना सिखाया था – बदलाव को उस देश मे एक त्यौहार की तरह स्वीकार किया जाता था। इसके विपरीत स्पार्टा में संगीत, उत्सव, और व्यापार तक को प्रतिबंधित कर दिया था। यही आगे चलकर स्पार्टा के पतन का कारण बना, जब दुनिया मे व्यापार बढा तथा मिलिट्री से ज्यादा अहमियत पैसे को मिलने लगी। जब युद्ध जितने के लिए मिलिट्री ताकत से ज्यादा जरूरी आपके संसाधन हो गए, जिसमे स्पार्टा पिछड़ते चले गए। पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।
  4. भारत देश का अंग्रेजों का गुलाम होना। भारत के बड़े बड़े साम्राज्य अंग्रेजों से बहुत शक्तिशाली थे, लेकिन अपने पुराने तौर तरीकों के कारण अंग्रेजों का सामना नही कर पाए। उन्होंने आपस मे सहयोग करने की कोई कोशिश नही की तथा एक एक करके सारे राज्य अंग्रेजों से हारते चले गए। इसके विपरीत अंग्रेज मिलिट्री में कमजोर होने के बावजूद, पानी की तरह रूप बदलते रहे तथा उन्होंने भारत के राजाओं को कुछ भी ऐसा नही दिया जिससे वो लडाई कर सकते थे। उन्होंने अपनी सेना को व्यापारियों के रूप में छिपा रखा था। इसी पल पल के बदलाव का फायदा उठाकर उन्होंने अपनी सेना को बहुत ज्यादा मजबूत कर लिए और अंत मे विजयी साबित हुए
  5. सोवियत यूनियन का टुकड़ो में बिखर जाना। बहुत बड़ी मिलिट्री ताकत होने के बावजूद भी, लोगों के ऊपर लगाए गए प्रतिबंधों ने सोवियत यूनियन को एक कमजोर राष्ट्र में बदल दिया।
  6. Nokia मोबाइल कंपनी का डूब जाना। जब Android पहली बार 2008 में दुनिया मे अवतरित किया गया, जोकि Apple iOS के लिए एक बहुत बेहतरीन विकल्प था, तो नोकिया ने उसे अपने मोबाइल में प्रयोग करने से मना कर दिया तथा अपने पुराने ओपरेटिंग सिस्टम Symbian के साथ ही चिपके रहने का फैसला किया। इसका नतीजा ये निकला कि 2004 में दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल बनाने वाली कम्पनी नोकिया; 2014 में माइक्रोसॉफ्ट ने ओने पौने दामों पर खरीद ली।

हर कोई बदलाव की जरूरत को समझता है। हालाँकि दिन-प्रतिदिन के स्तर पर मानव अपनी आदतों के अधीन होते हैं। बहुत अधिक परिवर्तन दर्दनाक है और हमेशा बदलाव के दौर से गुजर रहे लोगों के लिए दुखदायक होता है।

बदलाव के बारे में दुनिया के सफल लोगों के विचार

एक बुद्धिमान व्यक्ति अपनी सोच को बदल सकता है, लेकिन एक मूर्ख कभी नहीं।

स्पेन देश की कहावत

जो लोग दुनिया और खुद को बदलने का अदभुत विचार लाते हैं, वही लोग हैं जो वास्तव में बदलाव लाते हैं।

स्टीव जॉब्स, एप्पल के सह संस्थापक

गति आपके स्वभाव को परिवर्तित नही करती, यह बस आपके देखने के नज़रिये को बदल देती है।

राचेल होलिस, अमेरिकन लेखक

हम हवा के रुख को नही बदल सकते, परंतु हम अपने नाव के बहाव को समायोजित कर सकते हैं।

भारतीय कहावत

आप अपने भविष्य को नही बदल सकते, परन्तु अपनी आदतों को जरूर बदल सकते हैं। और एक दिन यही आदतें हमारे भविष्य को बदल देंगी।

अब्दुल कलाम आजाद

हमारी ज़िंदगी किसी भाग्य से बेहतर नही होती है, अपितु परिवर्तन से बेहतर होती है।

अगर हमे बेहतर परिणाम चाहिए तो काम को पुराने तरीके से करना छोड़ना पड़ेगा। पुराना तरीका, पुराने ही परिणाम देता है।

बदलाव के बारे में ऐतिहासिक सबक

इतिहास का सबक

  • बदलाव न करने के कारण महान स्पार्टा का पतन हुआ।
  • 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में स्पार्टा साम्राज्य यूनान के प्रभुत्व हासिल करने के लिए संघर्ष कर रहा था। और फारसी युद्धों के समय, यह यूनानी शहर-राज्यों की सहमति से मान्यता प्राप्त नेता बन चुका था।
  • हालांकि 8 वीं शताब्दी ईसा पूर्व तक, ग्रीस के अन्य राज्यों ने समुद्र की ओर मुड़ना शुरू कर दिया, एशिया में उपनिवेश स्थापित किए, यहां तक ​​कि अफ्रीका में इतालवी प्रायद्वीप।
  • स्पार्टा राज्य, हालांकि, भूमि और पहाड़ों से घिरा हुआ था। भूमध्यसागर तक पहुंच कम होने के कारण, स्पार्टन्स कभी भी समुद्री यात्रा करने वाले लोग नहीं बने, इसके बजाय वे जमीनी शहरों की ओर चले गए और सौ साल से अधिक समय तक चली उग्र और क्रूर लड़ाई में, एक विशाल क्षेत्र को जीतने का प्रबंधन कर लिया जो उनके नागरिकों को पर्याप्त संसाधन प्रदान करने के लिए काफी था।
  • हालांकि रणनीति उन्हें और अधिक विकराल समस्या लाती है – वे अपने विजित क्षेत्रों को कैसे बनाए सम्भाल सकते थे और निगरानी कर सकते थे? जिन लोगों पर उन्होंने शासन किया, वे धीरे-धीरे आबादी में बढ़ने लगे और जनसंख्या में स्पार्टा से दस गुना हो गये। निश्चित रूप से दुश्मनों का यह झुंड; मौका मिलते ही उन पर भयानक बदला लेगा।
स्पार्टा शहर का बाजार, सोर्स : Heritage History

बदलाव से बचने का बहाना

  • स्पार्टा ने इस समस्या से निपटने के लिए युद्ध की कला के लिए समर्पित एक समाज बनाने की सोच। स्पार्टा के लोग अपने प्रतिद्वंद्वी से संयमी, साहसी, मजबूत और उग्र होंगे।
  • यह एकमात्र तरीका था जिससे वे अपनी स्थिरता और अस्तित्व सुनिश्चित कर सकते थे। स्पार्टन्स जिस क्षण सात वर्ष की आयु तक पहुंचते थे, उसे उस मिलिट्री क्लब में रखा जाता था, जहां उसे लड़ने और कठोर अनुशासन से गुजरने का प्रशिक्षण दिया जाता था। उनको संगीत सुनने और कला का अभ्यास करने के लिए निषिद्ध किया जाता था।
  • उन्हें केवल युद्ध की रणनीति सीखने की अनुमति थी। स्पार्टा में किसी को भी व्यापार करने या धन प्राप्त करने की अनुमति नहीं दी जाती थी, इससे उन्हें कमजोर माना जाएगा। स्पार्टा केवल कृषि के माध्यम जिंदगी गुजार सकते थे, जहां गुलाम किये हुए दास उसके लिए काम करते थे।

बदलाव का डर

  • इस एकल मानसिकता ने उन्हें दुनिया में सबसे शक्तिशाली पैदल सेना बनाने में मदद की। उन्होंने सही क्रम में मार्च करना और अतुलनीय बहादुरी के साथ लड़ना सिख लिया था। वो लोग अपने से दस गुना बड़ी सेना को हरा सकते थे, जो उन्होंने थर्मोपाइले की लड़ाई में फारसियों को हराकर साबित कर दिया था।
  • स्पार्टा बहुत बड़े योद्धा थे, लेकिन साम्राज्य बनाने में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं थी। वे केवल वही रखना चाहते थे जो उन्होंने जीता है और आक्रमणकारियों से बचाना चाहते थे।

बदलाव का स्वागत

पुराना एथेन्स शहर, सोर्स : Google
  • उसी समय ग्रीस का एक और राज्य समान प्रमुखता की ओर बढ़ रहा था: एथेंस। स्पार्टा के विपरीत, एथेंस व्यापार करने के लिए समुद्र में ले गया था। एथेनियन महान व्यापारी बन गए; उनकी मुद्रा, प्रसिद्ध ” उल्लू के सिक्के, ” भूमध्यसागर से बाहर फैली हुई थी।
  • कठोर स्पार्टन्स के विपरीत, एथेनियाई लोगों ने रचनात्मकता के साथ हर समस्या का जवाब दिया, इस अवसर को स्वीकार करते हुए और जब भी आवश्यकता होती थी नए सामाजिक सुधारों का निर्माण करते थे। उनका समाज निरंतर प्रवाह में था।
  • जैसे-जैसे उनकी शक्ति बढ़ी, स्पार्टन्स के लिए खतरा पैदा हो गया। और आखिरकार 431 ई.पू. में युद्ध शुरू हो गया।यह युद्ध ग्रीक के इतिहास में पेलोपोनेसियन युद्ध के रूप में जाना जाता है। यह सत्ताईस वर्षों तक चला, लेकिन कई मोड़ आने के बाद, स्पार्टन्स युद्ध मशीन आखिरकार विजयी हुई।
  • स्पार्टन्स अब एक साम्राज्य की कमान संभालते हैं और अपने खोल में नहीं रह सकते। अगर वे हार गए तो उन्होंने जो कुछ हासिल किया था, उसे पीटने वाले एथेनियन फिर से उठेंगे और उनके खिलाफ लड़ाई लड़ी जाएगी।

बदलाव न करने के दुष्प्रभाव

युद्ध के बाद, एथेनियन धन स्पार्टा में डाला गया। स्पार्टन्स को युद्ध में प्रशिक्षित किया गया था, न कि राजनीति या अर्थशास्त्र; क्योंकि वे इसके लिए बेहिसाब थे, धन और विलासिता ने उन्हें बहकाया और अभिभूत किया। स्पार्टा के गवर्नर, जिन्हें घर से दूर एथेंस शहरों पर शासन करने के लिए भेजा गया था, ने भ्रष्टाचार के आगे घुटने टेक दिए। स्पार्टा ने एथेंस को हराया था, लेकिन जीवन का तरल एथेनियन तरीका धीरे-धीरे अपने अनुशासन को तोड़ रहा था और अपने कठोर आदेश को ढीला कर रहा था। और एथेंस, इस बीच, अपने साम्राज्य को खोने के लिए, एक संस्कृति और आर्थिक केंद्र के रूप में पनपने का प्रबंध कर रहा था। अपनी यथास्थिति में बदलाव के कारण, स्पार्टा कमजोर और कमजोर हो गया। एथेंस को हराने के कुछ तीस साल बाद, इसने थेब्स राज्य के साथ एक महत्वपूर्ण लड़ाई खो दी। लगभग रात भर, इस शक्तिशाली राष्ट्र का पतन हुआ, कभी उबरने के लिए नहीं।

आधुनिक एथेंस शहर, सोर्स : गूगल

निष्कर्ष

प्रजातियों के विकास में, कठोर सुरक्षात्मक कवच ने लगभग हमेशा हानि ही पहुंचाई है। हालांकि कुछ अपवाद हैं, यह आवरण ज्यादातर हमारे अंत का कारण बन जाता है, यह हमें धीमा कर देता है, जिससे भोजन की खोज करना मुश्किल हो जाता है। यह सुरक्षा कवच तेजी से चलने वाले शिकारियों का सबसे पसंदीदा लक्ष्य है। जो जीव जंतु आकाश में उड़ते हैं , और जो लगातार परिवर्तन द्वारा बहुत तेज और लचीले हो गए हैं, असीम रूप से अधिक शक्तिशाली और सुरक्षित हैं।

एक गंभीर समस्या का सामना करने में – बेहतर संख्या को नियंत्रित करना – स्पार्टा ने एक जानवर की तरह प्रतिक्रिया की जो पर्यावरण से खुद को बचाने के लिए एक आवरण विकसित कर लेता है।लेकिन स्पार्टन्स ने सुरक्षा के लिए गतिशीलता का त्याग किया। वे तीन सौ साल तक सुरक्षा बनाए रखने में कामयाब रहे, लेकिन किस कीमत पर? युद्ध से परे उनकी कोई संस्कृति नहीं थी, उनकी सुरक्षा के बारे में तनाव और निरंतर चिंता को दूर करने की कोई कला नहीं थी। जबकि उनके पड़ोसी समुद्र में ले गए थे, निरंतर गति की दुनिया के अनुकूल होना सीखते हुए, स्पार्टन्स ने अपने सिस्टम में खुद को उलझा दिया। विजय का अर्थ होगा नई भूमि, जो वे नहीं चाहते थे; हार का मतलब उनकी सैन्य शक्ति के खात्मे से होगा, जो वे नहीं चाहते थे। केवल ठहराव ने उन्हें जीवित रहने की अनुमति दी .. लेकिन इस दुनिया में कुछ भी हमेशा के लिए स्थिर नहीं रह सकता है, और जिस आवरण या सिस्टम को आप अपनी सुरक्षा के लिए विकसित करते हैं, वह किसी दिन आपके लिए खतरनाक साबित होता है।

स्पार्टा के मामले में, यह एथेंस की सेना नहीं थी जिसने इसे हराया था, लेकिन एथेनियन पैसे। पैसा हर जगह बहता है जहां इसे जाने का अवसर मिलता है; इसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। यह स्वाभाविक रूप से अराजकता का कारण है। और लंबे समय में, पैसे ने स्पार्टन सिस्टम में घुसपैठ करके और उसके सुरक्षात्मक कवच को तोड़कर हरा दिया। दो प्रणालियों के बीच की लड़ाई में, एथेंस तरल और रचनात्मक रूप से नए रूप लेने के लिए पर्याप्त थे, जबकि स्पार्टा केवल और अधिक कठोर होते गए है जब तक कि वो टूट नही गए।

सुझाव

  1. इस दुनिया में हम स्थिरता के मौके ढूंढ़ते रहते हैं, कुछ समय के लिए ये हमारे लिए काम भी करता है। परन्तु लंबे समय की दौड़ में ये खतरे का कारण बनता है। आप कितने भी बेहतर हो, अगर आप परिवर्तन नही करोगे तो आपकी जगह कोई आपसे भी बेहतर, ऊर्जावान और तेज इंसान ले लेगा, जैसे नोकिया की जगह Android ने लेली।
  2. लोगों को एक प्रणाली द्वारा तौला जाता है। काम करने के लचीले तरीके के बिना आप तेजी से आगे नहीं बढ़ सकते।तेजी से आगे बढ़ना और अनुकूल होना सीखें नहीं तो आपको खा लिया जाएगा।
  3. सबसे अच्छा तरीका चीजों को करने के वर्तमान परिदृश्यों के अनुसार बदलते रहना है।
  4. शक्तिशाली वे लोग हैं जिन्होंने एक नए रूप के माध्यम से कुछ नया व्यक्त करने की रचनात्मकता दिखाई है। समाज उन्हें शक्ति देता है क्योंकि यह इस तरह के नएपन का भूखा होता है।
  5. लोग केवल तभी कामयाब हो सकते हैं जब वो अपने रूपों में लचीला हो। शक्तिशाली लोग लगातार रूप बदल रहे हैं, और उनकी शक्ति उस तेज़ी से आती है जिसके साथ वे बदलाव ला सकते हैं।

सवाल जवाब

परिवर्तन क्या है?

काम करने के वर्तमान तरीकों में बदलाव को परिवर्तन कहा जाता है। यह बदलाव हमारी व्यक्तिगत, व्यापारिक और सामाजिक जीवन में हो सकता है।

परिवर्तन कितने प्रकार का होता है?

बदलाव 2 से तरह से किया जा सकता है। 1.भावनात्मक तौर से 2.काम करने के तरीकों से।

भावनात्मक तौर पर परिवर्तन से आप अपनी भावनाओं और सोचने के तरीकों में परिवर्तन करते हैं। सोचने के पुराने तरीकों को त्यागकर नई सोच को अपनाते हो।

काम करने के तौर तरीकों में परिवर्तन से आप अपनी प्रतिक्रिया को बदलते हो। जिसके परिणामस्वरूप आपके कार्य उसके अनुसार परिवर्तित हो जाते हैं।

कैसे पता चलेगा कि अब बदलाव का समय है?

चाहे अच्छी हो या बुरी, हमारी वास्तविकता होती है। इसलिए बदलाव करने के समय का आंकलन करना बहुत आवश्यक है। जब हम बार बार हर काम मे पीछे रह जाते हैं, तो समझ जाना चाहिए कि कुछ बदलाव करने की आवश्यकता है। यह बदलाव Thinking और Action दोनों तरह से किया जा सकता है।

मैं परिवर्तन क्यों नही कर सकता?

मनोवैज्ञानिक तौर पर परिवर्तन हमारे लिए एक गलती की तरह होता, जिसको ठीक किये बिना हमे शुकुन नही मिलता। हमारा दिमाग परिवर्तन को पसंद नही करता है, क्योंकि परिवर्तन से हमारे दिमाग को काम करना पड़ता है। और हमारा दिमाग नई बातों को पसंद नही करता , इसलिये परिवर्तन से घबराता है।

कितना परिवर्तन करना है?

हम रोजमर्रा की जिंदगी में अपनी आदतों के गुलाम होते हैं। इसलिए बहुत ज्यादा परिवर्तन हमारे लिए हादसे के समान होता है। फलस्वरूप, बहुत ज्यादा बदलाव करने से नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं।

कैसे परिवर्तन करना है?

कोई भी काम करने के लिए शुरुआत करने की जरूरत होती है। जब तक हम धरातल पर उतरकर काम नही करेंगे, तो चाहे कितने भी प्लान बनाते रहें, परिवर्तन करना सम्भव नही होगा।

Comments

  1. I was suggested this blog by my cousin. I’m not certain whether this post is written through
    him as no one else recognise such specified approximately my trouble.
    You are amazing! Thank you!

  2. What’s up colleagues, how is everything, and what you desire to say concerning this
    paragraph, in my view its genuinely awesome for me.

  3. I have to thank you for the efforts you have put in penning this website.
    I’m hoping to see the same high-grade content from you later on as well.

    In fact, your creative writing abilities has motivated me to get my very own website now
    😉

  4. Hi friends, how is the whole thing, and what
    you desire to say on the topic of this post, in my view its
    truly amazing in favor of me.

Leave a Reply

Your email address will not be published.