इस गणतंत्र दिवस पर जानिए इस दिन का महत्व और इतिहास

26 जनवरी को ही भारतीय गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

26 जनवरी 1950 के दिन भारत खुद एक गणतंत्र के रूप में स्थापित हुआ था। इस बार 26 जनवरी 2021 को 72वां गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा।

Advertisement

★ गण = लोग + तन्त्र = शासन【लोगों का शासन】

गणतंत्र एक ऐसा देश होता है, जिसमें वास्तविक शक्तियां लोगों और उसके द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों के पास होती हैं।

★ यह दिन भारत के 3 राष्ट्रीय पर्वों स्वतंत्रता दिवस और महात्मा गांधी जयंती में से एक है, जिस दिन भारत मे राजकिय अवकाश होता है।

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

26 जनवरी 1950 के दिन भारत का खुद का संविधान प्रभाव में आया था, जिसने पुराने Government of India Act 1935 की जगह ली थी। 26 जनवरी 1929 के दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने अंग्रेजों द्वारा सुझाये गए आंशिक आज़ादी (Dominion) को ठुकराकर पूर्ण स्वराज को अपनाया था।

Government of India Act 1935 क्या था?

यह कानून अंग्रेजी सरकार United Kingdom Government द्वारा भारत मे राज करने के लिए बनाया गया था। इसको 2 अगस्त 1935 को पास किया गया औऱ भारत का खुद का संविधान बनने के बाद 26 जनवरी 1950 को खत्म कर दिया गया।

गणतंत्र दिवस कैसे मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रीय झांकियों का आयोजन किया जाता है जो राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र नई दिल्ली में राजपथ पर भारत के राष्ट्रपति के सामने आयोजित की जाती है।

दिल्ली गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन भारतीय सुरक्षा मंत्रालय द्वारा किया जाता है। यह परेड राष्ट्रपति भवन के गेट से शुरू होकर इंडिया गेट तक जाती है। दिल्ली की यह परेड ही गणतंत्र दिवस का मुख्य आकर्षण केंद्र रहती है।

दिल्ली की इस परेड में विभिन्न राज्यों की झांकियां, भारत की तीनों सेनाओं की झांकियां औऱ अलग अलग स्कूलों, कालेजों औऱ संस्थाओं द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक आयोजन किये जाते हैं।

Beating Retreat का आयोजन

यह आयोजन गणतंत्र दिवस के समापन पर की जाती है। गणतंत्र दिवस समारोह के आधिकारिक समापन के बाद 29 जनवरी की शाम को राष्ट्रपति भवन के सामने विजय चौक पर तीनों सेनाओं की टुकड़ियां राष्ट्रपति को सैलूट करती हैं और भारत का राष्ट्रीयगान जन गण मन गाया जाता है।

Advertisement

अवार्ड्स और उपलब्धियां

गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति पदम् अवार्ड्स देते हैं। ये अवार्ड तीन समुहों में दिए जाते हैं।

  1. पदम् विभूषण: यह अवार्ड भारत में भारत रत्न के बाद दूसरा सबसे बड़ा नागरिक अवार्ड है तथा अभूतपूर्व उपलब्धियों के लिए दिया जाता है।
  2. पदम् भूषण: यह अवार्ड भारत मे तीसरा सबसे बड़ा नागरिक अवार्ड है।
  3. पदम् विभूषण: यह अवार्ड भारत में चौथा सबसे बड़ा नागरिक अवार्ड है।

गणतंत्र दिवस का इतिहास

15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजी शासन से Indian Independence Act 1947 के तहत आज़ादी मिली थी। इस एक्ट के अनुसार इंग्लैड के राजा George VI भारत के राजा औऱ the Earl Mountbatten को भारत का गवर्नर जनरल नियुक्त किया गया था। क्योंकि भारत के पास अपना खुद का संविधान नहीं था, इसलिए 29 अगस्त 1947 को भारत का संविधान बनाने के लिये संविधान सभा बनाई गई जिसके चैयरमैन भीमराव अंबेडकर बने।

इस संविधान सभा ने 4 नवम्बर 1947 को भारत की प्रशासनिक सभा के सामने संविधान का एक ड्राफ्ट प्रस्तुत किया। 166 दिन जनता के सुझाव मिलाकर कुल 2 साल 11 महीने औऱ 18 दिन बाद औऱ अनगिनत सुधारों के बाद 308 लोगों की सभा ने 24 जनवरी 1950 को अंग्रेजी और हिंदी में हाथ से लिखी हुई 2 प्रतियों पर हस्ताक्षर कर दिए। तथा 26 जनवरी 1950 को इस संविधान को लागू कर दिया गया।

इस संविधान के अनुसार डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद गणतंत्र भारत के पहले राष्ट्रपति बने।

पहले गणतंत्र दिवस की परेड

भारत के गणतंत्र बनने पर अंग्रेजी अखबार

गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि

26 जनवरी 1950 को भारत के पहले गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि श्री सुकर्णो थे, जो इंडोनेशिया के राष्ट्रपति थे।

सालमुख्य अतिथिदेश
2021
2020जेयर बोल्सोनारो, राष्ट्रपतिब्राजील
2019सिरिल रामाफोसा, राष्ट्रपतिदक्षिण अफ्रीका
2018सभी दस आसियान देशों के प्रमुखब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाइलैंड और वियतनाम
2017क्राउन प्रिंस, मोहम्मद बिन जायद अल नाहयानआबु धाबी
2016राष्ट्रपति, फ्रांस्वा ओलांद , राष्ट्रपति,मैत्रीपाल सिरिसेनफ्रांस
श्रीलंका
2015राष्ट्रपति, बराक ओबामासयुंक्त राज्य अमेरिका
2014प्रधानमंत्री, शिंजो अबेजापान
2013राजा, जिग्मे खेसर नामग्याल वांग्चुकभूटान
2012प्रधानमंत्री, यिंगलक चिनावाटथाईलैंड
2011राष्ट्रपति, सुसीलो बाम्बांग युद्धोयोनोइंडोनेशिया

पहले गणतंत्र दिवस के आश्चर्यजनक तथ्य

  • 26 जनवरी, 1950 को सुबह 10:18 बजे भारत गणतंत्र बना। कुछ मिनट बाद, 10:24 बजे डॉ। राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली
  • भारत का पहला संविधान हिंदी और अंग्रेजी में हस्तलिखित था। इसे 24 जनवरी, 1950 को संविधान सभा के सदस्यों द्वारा हस्ताक्षरित किया गया था। ये प्रतियां अभी भी संसद के पुस्तकालय में संरक्षित हैं और स्वतंत्र भारत के महत्वपूर्ण अवशेषों में से एक हैं।
  • 1950 और 1954 के बीच, भारत में गणतंत्र दिवस समारोह के लिए एक निश्चित स्थान नहीं था। शुरू में यह लाल किला, फिर नेशनल स्टेडियम, फिर किंग्सवे कैंप और फिर रामलीला मैदान में आयोजित किया गया। अंततः 1955 में, राजपथ को स्थायी स्थल के रूप में चुना गया। यह पहली गणतंत्र दिवस परेड थी।
  • संविधान सभा के सदस्यों ने 24 जनवरी, 1950 को राष्ट्रगान – जन गण मन – को भी अपनाया। इसे बंगाली में रवींद्रनाथ टैगोर ने लिखा था और बाद में इसका हिंदी अनुवाद किया गया।
Advertisement

सवाल जवाब

गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है?

26 जनवरी को। यह दिन 26 जनवरी 1950 से हर साल मनाया जाता है, इस बार 26 जनवरी 2021 को 72वां गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा।

गणतंत्र क्या है?

गणतंत्र एक ऐसा देश होता है, जिसमें वास्तविक शक्तियां लोगों और उसके द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों के पास होती हैं।

गण (लोग) + तंत्र (शासन) = लोगों का शासन

गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण कौन करता है?

15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री ध्वजारोहण करते हैं। वहीं 26 जनवरी को राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि प्रधानमंत्री देश के राजनीतिक प्रमुख होते हैं, जबकि राष्ट्रपति संवैधानिक प्रमुख होते हैं। 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू हुआ था, इसलिए गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं।

गणतंत्र दिवस कब लागू हुआ?

एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया था।

Comments

  1. This design is wicked! You definitely know how to keep a reader entertained.
    Between your wit and your videos, I was almost moved to start
    my own blog (well, almost…HaHa!) Great job. I really enjoyed what you had to say, and more than that,
    how you presented it. Too cool!

  2. I know this web site gives quality depending posts and other information, is there any
    other website which gives these kinds of information in quality?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *