विश्व बालिक दिवस International Girl Child Day 2020

विश्व बालिका दिवस 2020 या International girl child day 2020: इस दुनिया में 18 साल से कम उम्र की 1.1 बिलियन से अधिक लड़कियां हैं, जिन्हें दुनिया की सबसे बड़ी महिला नेताओं, उद्यमियों और बदलाव करने वाली पीढ़ी बनने के लिए तैयार किया जा सकता है।

Advertisement

कब और क्यों मनाया जाता है

International Girl Child Day हर साल 11 अक्तूबर को दुनिया भर में लड़कियों के अधिकारों की रक्षा और उनके सामने आने वाली कठिनाइयों को समझने के लिए मनाया जाता है।

19 दिसम्बर 2011 को सयुंक्त राष्ट्र सभा ने 11 अक्तूबर के दिन विश्व बालिका दिवस के रूप में मान्यता दी थी। 

1995 में बीजिंग में महिलाओं के विश्व सम्मेलन में सर्वसम्मति से बीजिंग घोषणा और प्लेटफ़ॉर्म फॉर एक्शन को अपनाया गया, जो न केवल महिलाओं बल्कि लड़कियों के अधिकारों को आगे बढ़ाने के लिए सबसे प्रगतिशील घोषणा है।

International Girl Child Day 2020 theme: My voice, our equal future.

कैसे मनाया जाता है

बालिका अंतर्राष्ट्रीय दिवस लड़कियों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने और लड़कियों के सशक्तीकरण और उनके मानव अधिकारों को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित करता है।

केवल किशोरावस्था में ही लड़कियों को प्रारंभिक वर्षों के दौरान सुरक्षित, शिक्षित, और स्वस्थ जीवन का अधिकार है, बल्कि इनकी महिलाओं में भी उतनी ही जरूरत होती हैं। यदि किशोरावस्था के दौरान प्रभावी ढंग से समर्थन किया जाए, तो लड़कियों में दुनिया को बदलने की क्षमता होती है। किशोर लड़कियों की शक्ति को साकार करने में उनके जरूरी अधिकारों की रक्षा बहुत महत्वपूर्ण है। इसी कड़ी में दुनिया को अवगत कराने के लिए दुनिया भर में यह दिन एक जागरूकता के रूप में मनाया जाता है।

लैंगिक समानता और महिला सशक्तिकरण को प्राप्त करना सयुंक्त राष्ट्र के 17 लक्ष्यों का एक अभिन्न अंग है। हम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करके ही सबके लिए समावेशी विकास, न्याय और अर्थव्यवस्था को वर्तमान औऱ भविष्य के समाज में लागू कर पाएंगे।

भारत मे बालिका दिवस

भारत में 24 जनवरी 2008 को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय बालिक दिवस या National Girl Child Day की शुरुआत की थी।

राष्‍ट्रीय स्‍तर पर लड़कियों के विकास को एक अभियान के रूप में मानकर भारत सरकार ने नेशनल गर्ल चाइल्‍ड डे की शुरुआत की है। इस अभियान का मकसद देश भर में लोगों को लड़कियों के प्रति जागरुक करना है। इस अभियान के तहत माता-पिता के साथ ही समाज के तमाम तबकों के लोगों को शामिल कर उन्‍हें इस बात के लिए जागरूक किया जाता है कि लड़कियों के पास भी फैसले लेने का अधिकार होना चाहिए।

नेशनल गर्ल चाइल्ड डे मनाने का उद्देश्य

राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाए जाने के मुख्य रूप से 3 उद्देश्य हैं

– बालिकाओं के अधिकारों के प्रति जागरुकता बढ़ाना.

– विभिन्न अत्याचार और जिन असमानताओं का बालिकाएं सामना करती हैं उनके बारे में मंच पर बात करना

– लड़कियों के शिक्षा और स्वास्थ्य का महत्व समझाने और इसे बढ़ावा देने के लिए.

Comments

  1. I would like to thank you for the efforts you’ve put in writing this website.
    I am hoping to check out the same high-grade content
    from you later on as well. In fact, your creative writing abilities has motivated me
    to get my very own blog now 😉

  2. Fantastic site. Plenty of useful information here. I am sending
    it to a few buddies ans also sharing in delicious. And of course, thanks to your sweat!

  3. It’s awesome to visit this website and reading the views of all mates concerning this
    article, while I am also eager of getting experience.

  4. I think this is one of the so much vital information for
    me. And i’m happy studying your article. But want to commentary on some common things,
    The web site taste is ideal, the articles is in point of fact nice
    : D. Good job, cheers

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *