April Fools’ Day अप्रैल फूल दिवस

April Fool’s Day और April Fools’ Day पूरी दुनिया मे हँसी मजाक के दिन के रूप में मनाया जाता है।

अप्रैल फूल दिवस क्या है

यह दिन मुख्यतः पश्चिमी देशों में हंसी मजाक, चुटकुलों औऱ मसखरों का दिन है। इस दिन जोक्स और मजाक करने वाले प्रायः “अप्रैल फूल” कहकर मज़ाक को खत्म करते हैं।

Advertisement

अप्रैल फूल दिवस क्यों मनाया जाता है

यह दिन पूरी दुनिया में हंसी मजाक और मूर्खतापूर्ण हरकतों का दिन है। इस दिन लोग अपने सगे सम्बंधियों, दोस्तों के साथ मूर्खतापूर्ण हरकतें करते हैं औऱ कोई भी इन हरकतों का बुरा नहीं मानता है।

अप्रैल फूल का इतिहास

आज तक कोई ऐसे पुख्ता सबूत नहीं हैं कि केवल किसी एक घटना से प्रेरणा लेकर अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता हो। दुनिया के अलग अलग देशों मुख्यतः पश्चिमी देशों में इस दिन को लेकर कई कहानियां प्रचलित हैं और वहां से दुनिया के दूसरे देशों जैसे अमेरिका औऱ एशिया में फैल गया। भारत मे इस दिन की शुरुआत अंग्रेजी शाशन से मानी जाती है।

इंग्लैंड के कवि की कहानी

अप्रैल फूल दिवस और 1 अप्रैल के बीच एक विवादित सम्बंध Geoffrey Chaucer नामक एक प्रसिद्ध अंग्रेजी कवि की 1392 रचना The Canterbury Tales से है। जिसके एक अध्याय Nun’s Priest’s Tale में कवि की लिखी गयी लाइन Syn March bigan thritty dayes and two जिसमें मार्च में 32 दिन समझ लिया जाता है और एक अतिरिक्त दिन को 1 अप्रैल मानकर, अप्रैल फूल दिवस की शुरुआत हो जाती है। हालांकि कई इतिहासकार अब भी इस लाइन का मतलब कुछ और ही मानते हैं। आधुनिक इतिहासकार मानते हैं कि Chaucer की लाइन कॉपी करने में गलती हुई है, वास्तव में वह लाईन Syn March was gon थी।

Advertisement

फ्रांस की कहानी

कुछ लेखक मानते हैं कि मध्यावधि में लगभग सारे यूरोप में नया साल 25 मार्च को मनाया जाता था और छुट्टियां 1 अप्रैल तक खत्म होती थी। इसलिए जो लोग 1 जनवरी को नया साल मनाते थे, उन्होंने 1 अप्रैल को मनाने वालों का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया। और अप्रैल फूल दिवस की शुरुआत हुई।

नीदरलैंड की कहानी

नीदरलैंड में लोग अप्रैल फूल दिवस की शुरुआत को 1572 में स्पेन के राजा ओलेवा पर हुई डच विजय से जोड़ा जाता है। एक डच कहावत Op 1 april verloor Alva zijn bril जिसका हिंदी में मतलब है “पहली अप्रैल को अलेवा ने अपना चश्मा खो दिया” (यहां चश्मे का मतलब बरेली राज्य से है, जहां की लड़ाई में ओलेवा की हार हुई थी)।

हिलारिया त्यौहार से सम्बंध

प्राचीन काल में रोम में रहने वाले लोग अत्तिस देवता की पूजा करते थे. इस समारोह के दौरान जिसे हिलारिया कहा जाता था,लोग अजीब पहनावा रखते थे और उत्सव में मास्क पहनना आवश्यक था. इस कारण लोग स्वांग रच सकते थे. इस कारण इतिहासकारों और विद्वानों ने अप्रैल फूल की उत्पति को इस उत्सव से जोड़ना शुरू कर दिया.

नोह् काल की कहानी

अठारहवीं सदी में इस समारोह को अक्सर नोह के काल की ओर वापस जाने के समान समझा जाता था। 1789 में प्रकाशित एक अंग्रेजी अखबार के लेख के अनुसार इस दिन की शुरुआत का संबंध उस दिन से है जब नोह ने पानी कम होने से पहले ही अपने कबूतरों को बहुत जल्दी भेज दिया था; उसने ऐसा हिब्रू महीने की पहली तारीख को किया जिसका संदर्भ अप्रैल से है।

अपने दोस्तों को अप्रैल फूल कैसे बनाएं

  • अगर आपका दोस्त या भाई-बहन माइक्रोसॉफ्ट वर्ड पर काम करता है तो आप ऐसा कमाल कर सकते हैं कि जब भी अपना नाम टाइप करेगा, Fool लिखा आएगा। इसके लिए आपको दोस्त के कंप्यूटर में ये स्टेप्स करने होंगे। Tools पर क्लिक करें, Autocorrect Options को सिलेक्ट करें, जब आप बॉक्स टाइप करेंगे तो रिप्लेस बॉक्स आएगा। इस बॉक्स में अपने दोस्त का नाम लिखें। With बॉक्स में Fool लिखें। अब Add और फिर OK पर क्लिक करें। जब भी आपका दोस्त अपना नाम टाइप करेगा, Fool लिखा आएगा।
  • एक सिक्के को लेकर जमीन पर फेविक्विक से चिपका दें। सावधानी से चिपकाएं। अपने दोस्त या भाई/बहन का ध्यान उसकी ओर दिलाएं और उसे उठाने को कहें। वह कोशिश करके थक जाएगा/जाएगी लेकिन सिक्का टस से मस नहीं होगा।
Advertisement

मैसेज द्वारा अप्रैल फूल बनाएं

कितना प्यारा तुझे रब ने बनाया 
कितना प्यारा तुझे रब ने बनाया 
मन खुश हो गया की
मैंने तुझे 2 दिन पहले ही अप्रेल फुल बनाया।
गुलाब का फूल बागो में खिल रहा हैचमेली का फूल चमन में महक रहा है
कमल का फूल पानी में तैर रहा है
और अप्रैल फूल मेरा मैसेज पढ़ रहा है।

सालों से एक दिल तुम्हारे लिये धड़क रहा है
और हमेशा धड़कता रहेगा
वो दिल तुम्हारा अपना है
हैप्पी अप्रैल फूल डे।

इस कदर हम आपको चाहते हैंकी दुनिया वाले देख के जल जाते हैं
यूं ही हम दुनिया को उल्लू बनाते हैं
पर आप थोड़ा जल्दी बन जाते हैं
हैप्पी अप्रैल फूल डे।

इतिहास के कुछ सबसे बड़े prank

आधुनिक समय में, अप्रैल फूल्स डे होक्स को बड़ा बनाने के लिए लोग बहुत ज्यादा मेहनत करते हैं। समाचार पत्रों, रेडियो और टीवी स्टेशनों और वेबसाइटों ने 1 अप्रैल को अपने दर्शकों को मूर्खतापूर्ण काल्पनिक दावों की रिपोर्टिंग करने की परंपरा में भाग लिया है। ऐसे ही कुछ उदाहरण नीचे लिखे गए हैं।

  • 1957 में बीबीसी ने रिपोर्ट किया था कि स्विट्जरलैंड के लोग इस साल पास्ते की फसल उगा रहे हैं और लोगों पेड़ों से नूडल्स तोड़ते हुए दिखाया था।
  • 1985 में एक खेल कूद लेखक जॉर्ज पलिम्प्टन ने बहुत सारे पढ़ने वालों को अप्रैल फूल बनाया जब उन्होंने लिखा कि एक सीड फिंच नामक एक खिलाड़ी 271किमी/घण्टे की स्पीड से बोल फैंक सकता है। जबकि उच्चतम स्पीड का रिकॉर्ड 112किमी/घण्टे से ज्यादा नहीं है।
  • अमेरिका में 1992 में नेशनल रेडियो पर बताया गया कि राष्ट्रपति रिचर्ड नेक्सन दोबारा राष्ट्रपति के लिए नामांकन कर रहे हैं, जबकि वो सिर्फ एक मजाक था औऱ पूरे देश मे इस बात का मजाक उड़ा था।
  • गूगल जैसी कम्पनी भी समय समय पर अप्रैल फुल डे पर सन 2000 से लेकर 2020 तक मजाकिया प्रैंक चला चुकी है जैसे टेलीपैथिक सर्च औऱ मॉक मैन का गूगल मैप्स पर चलना आदि।

दुनिया के अलग अलग देशों में अप्रैल फूल दिवस कैसे मनाया जाता है

दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड, ब्रिटेन और आस्ट्रेलिया, में सिर्फ दोपहर तक ही अप्रैल फूल डे बनाने का चलन है, दरअसल यहां के न्यूजपेपर सिर्फ सुबह के अंक में ही मुख्य पेज पर अप्रैल फूल दिवस से जुड़े कुछ रोचक किस्से अथवा मजेदार चुटकलें लिखते हैं, जबकि अन्य देशों में अप्रैल फूल दिवस को पूरे दिन तक मनाए जाने की परंपरा है।

वहीं दूसरी तरफ बेल्जियम, इटली और फ्रांस ऐसे देश हैं जहां अप्रैल फूल डे वाले दिन लोगों के पीछे कागज की मछली बनाकर चिपका दी जाती है, और मजाक बनाया जाता है, जबकि स्पेनिश बोलने वाले कुछ ऐसे देश हैं जहां मूर्ख दिवस 28 दिसंबर को मनाया जाता है, जो कि डे ऑफ होली इनोसेंट्स के नाम से प्रचलित है।

जबकि डेनमार्क में 1 मई मज-कट के रुप मे मनाया जाता है। इसके अलावा देश-दुनिया के इतिहास में इस दिन कई ऐसी मजाकिया घटनाएं घटित हुईं, जिसके चलते इस दिन को अप्रैल-फूल डे के तौर पर मनाया जाने लगा।

सवाल जवाब

अप्रैल फूल को हिंदी में क्या कहते हैं?

अप्रैल फूल को हिंदी में अप्रैल फूल या मूर्ख दिवस भी कहते हैं

1 अप्रैल को अप्रैल फूल क्यों मनाया जाता है?

इस बात को लेकर दुनिया मे कई तरह की कहानियां प्रचलित हैं। लेकिन इसके कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं कि इनमें से किसी एक कि वजह से ही अप्रैल फूल बनाया जाता हो।

Comments

  1. Quality articles or reviews is the secret to be a focus
    for the viewers to pay a visit the web site, that’s what this site
    is providing.

  2. I was wondering if you ever considered changing the layout of your website?
    Its very well written; I love what youve got to say.
    But maybe you could a little more in the way of content
    so people could connect with it better. Youve got
    an awful lot of text for only having one or 2 images.
    Maybe you could space it out better?

Leave a Reply

Your email address will not be published.