कोरोना वायरस से बचाव कैसे किया जा सकता है

कोरोना वायरस क्या होता है

Advertisement

कोरोना वायरस कैसे फ़ैलता है

Coronavirus इंसान के अंदर अपने आप पैदा नही हो सकता। यह बाहर किसी संक्रमित व्यक्ति या संक्रमित वस्तु से ही हमारे अंदर जा सकता है। इसलिए इसको रोकने के लिए सबसे जरूरी कामों की सूची इस प्रकार है

1. जब भी घर से बाहर निकलें, हमेशा मास्क पहनकर ही बाहर निकलें

कोरोना वायरस धूल मिट्टी और थूक की बूंदो पर 3 से 4 घण्टे जीवित रह सकता है। और जब भी आप संक्रमित हवा में सांस लेते हैं तो यह वायरस आपके अंदर प्रवेश कर सकता है। इसलिये जब भी बाहर जाएं, मास्क से अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढक लें।

2. बिना हाथों को धोएं, अपने आंख, कान, मुँह ओर नाक को ना छुएं।

संक्रमित हवा का वायरस हमारे हाथों पर लग जाता है। जब भी हम उन्हीं हाथों से अपने मुंह और नाक को छूते हैं तो यह अंदर जा सकता है। इसलिए हाथों को बार बार साबुन से धोते रहें।

3. हाथों को धोने के लिए कम से कम 60% अल्कोहल आधारित सेनेटाइजर का उपयोग करें

कोरोना वायरस का बाहरी आवरण वसा से बना होता है। इस आवरण को तोड़ने के बाद कोरोना वायरस 60 सेकंड से ज्यादा जीवित नहीं रह सकता। इसको तोड़ने में अल्कोहल आधारित सेनेटाइजर या साबुन सबसे कारगर हैं। इसलिए हाथों को गिला करके साबुन लगाकर 20 सेकंड तक चारों तरफ से अच्छी तरह से रगड़ें और फिर पानी से साबुन साफ करें। सेनेटाइजर प्रयोग करते समय भी हाथों को चारों तरफ लगाना चाहिए।

4. शारीरिक दूरी का पालन करें

Incubation period के दौरान कोरोना वायरस का पता लगाना बहुत मुश्किल होता है। फलस्वरूप बिना लक्षणों वाला इंसान भी दूसरों को संक्रमित कर सकता है। इसलिए ज्यादा भीड़ भाड़ वाली जगहों से दूर रहना चाहिए और घर से बाहर कम से कम 1 मीटर या 6 फ़ीट की दूरी बनाएं रखें।

5. सार्वजनिक जगहों पर जाने से बचें

कोरोना वायरस की सबसे बड़ी ताकत एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलना है। यह सार्वजनिक स्थानों पर सबसे तेजी से फ़ैलता है। इसलिए होटल, बस स्टॉप, एयरपोर्ट, हॉस्पिटल, मॉल, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, ऑटो रिक्शा, पार्टी, शादी, समारोह आदि सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचें। यदि बहुत जरूरी है तो नियम 1 से लेकर 4 का सख्ती से पालन करें।

6. AC का उपयोग न करें

AC पानी की छोटी छोटी बूंदों को बंद जगह पर घुमाता रहता है। ये बूंदे हालांकि हमें दिखाई नहीं देती हैं फिर भी एक बूंद में 20 लाख तक कोरोना वायरस हो सकते हैं। ये बूंदे कोरोना वायरस को फैलाने में सहायक होती हैं। इसलिए AC का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए।

7. खुली व हवादार जगह पर रहें

अगर सार्वजनिक जगह जैसे ऑफिस, हॉस्पिटल आदि जाना जरूरी है, तो कमरे के दरवाजे औऱ खिड़कियां खोल दें। जिससे हवा आर पार निकलती रहे। इससे हवा के साथ तैरने वाले वायरस एक जगह पर नहीं इकट्ठे हो पाएंगे जिससे संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

8. शरीर के रक्षा तंत्र को बेहतर बनाएं

अगर हम कोरोना वायरस से संक्रमित ही भी जाते हैं, तो 98% सम्भावना है कि हम सुरक्षित ठीक हो जाएंगे। फिर भी इसके लिए हमें अपने रक्षा तंत्र को मजबूत बनाने के प्रयास करने चाहिए। इसके लिए फल व सब्जियों का सेवन करें, तला भुना हुआ खाना न खाएं, धूम्रपान और शराब का सेवन न करें तथा विटामिन C से भरपूर चीजें जैसे सन्तरा,मौसमी, निम्बू, हल्दी, अदरक, लहसुन आदि का सेवन करें। विटामिन C की गोलियां भी ली जा सकती हैं।

कोरोना वायरस से मौत कैसे होती है

कोरोना वायरस एक ऐसी बीमारी है जिसका अभी तक कोई इलाज सम्भव नहीं है। फिर भी इसका मतलब यह नहीं है कि हमें इसको लेकर घबराहट में रहने की जरूरत है। इसको हराने के लिए हमें चिंता की नहीं अपितु जानकारी की जरूरत है। कोरोना वायरस के बारे में जानकारी एकत्रित करते रहें और सरकार व विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइंस का ध्यान से पालन करें। याद रखें एक छोटी सी गलती आपके और आपके परिवार के लिए भारी हो सकती है।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.